Vivo Z1 pro long battrey bakup 108 views

Vivo भारत में एक बड़ा स्मार्टफोन ब्रांड है और ऑफलाइन मार्केट में अपनी पकड़ बनाने के बाद अब कंपनी ऑनलाइन मार्केट में अपना ध्यान केंद्रित कर रही है। Vivo ने हाल ही में अपने लेटेस्ट स्मार्टफोन Vivo Z1 Pro को भारत में लॉन्च किया है जो केवल ई-कॉमर्स साइट Flipkart पर बेचा जाएगा। Vivo का यह नया और लेटेस्ट स्मार्टफोन खास तौर से ज़ेन जे़ड ग्राहकों के लिए बनाया गया है जो फोन में अच्छे लुक के साथ लेटेस्ट फीचर्स भी चाहते हैं। Vivo Z1 Pro अच्छे कैमरा, बैटरी लाइफ और गेमिंग के लिए बढ़िया प्रोसेसिंग पावर से लैस है।
ऐसा प्रतीत होता है कि Vivo ने Vivo Z1 Pro को डिज़ाइन करने के लिए मौजूदा मार्केट ट्रेंड का अच्छे से अध्ययन किया है। क्या वीवो ब्रांड का यह स्मार्टफोन और फोन को टक्कर दे पाएगा, ये देखने वाली बात होगी। आज हम Vivo Z1 Pro को रिव्यू करेंगे और देखने वाली बात यह भी होगी कि क्या Vivo Z1 Pro हमारी अगली 20,000 रुपये से कम में मिलने वाले बेस्ट स्मार्टफोन की लिस्ट में अपनी जगह बना पाता है।

Vivo Z1 Pro design :

पहली बात जो आपको Vivo Z1 Pro के फ्रंट पैनल को देखकर नोटिस होगी वह है इसकी ओवरसाइज़्ड स्क्रीन। स्क्रीन में बायीं ओर होल है जिसमें फ्रंट कैमरे को जगह मिली है। कैमरा होल काफी बड़ा नहीं है और ना ही फोन को दिनभर इस्तेमाल करते वक्त यह आपका ध्यान भटकाता है। Vivo द्वारा भेजे हमारे Vivo Z1 Pro रिव्यू यूनिट पर स्क्रीन प्रोटेक्टर चढ़ा हुआ था। फोन का सामान्य उपयोग करने पर भी प्लास्टिक फिल्म पर निशान पड़ जाते हैं। Vivo Z1 Pro में आकर्षक ग्लॉसी प्लास्टिक रियर पैनल दिया गया है जो मल्टी-कलर ग्रेडिएंट फिनिश के साथ आता है। हमारा रिव्यू यूनिट का कलर सोनिक ब्लू है और इसके बैक पैनल पर ऊपर की ओर एमराल्ड ग्रीन है जो कॉबेल्ट ब्लू के साथ जा मिलता है। कलर्स सेचुरेटेड हैं, साथ ही इसके बैक पैनल पर जब लाइट पड़ती है तो इफेक्ट देखने को मिलता है।

vivo z1 pro design

Vivo Z1 Pro के फ्रंट और बैक पैनल का डिज़ाइन ध्यान अपनी ओर आकर्षित करता है। केवल इतना ही नहीं, फोन के बैक पैनल पर आपको सिक्योरिटी के लिए फिंगरप्रिंट सेंसर भी मिलेगा। पावर और वॉल्यूम बटन को फोन के दाहिनी ओर तो वहीं फोन के बायीं ओर सिम और माइक्रोएसडी कार्ड ट्रे मिलेग। इसके ठीक नीचे गूगल असिस्टेंट बटन दिया गया है।
Vivo Z1 Pro में दो नैनो-सिम स्लॉट और अलग से एक माइक्रोएसडी कार्ड स्लॉट है। गूगल असिस्टेंट बटन अन्य फंक्शन के लिए असाइन नहीं किया जा सकता है। हमें इस बात से निराशा हुई कि Vivo अब भी अपने लेटेस्ट स्मार्टफोन जैसे कि Vivo Z1 Pro में माइक्रो-यूएसबी पोर्ट दे रही है। फोन के निचले हिस्से में 3.5 मिलीमीटर हेडफोन जैक और स्पीकर ग्रिल भी है।
Vivo Z1 Pro में Vivo Y17 का प्रतिरूप देखने को मिल रहा है जो समान डाइमेंशन और स्टाइलिंग से लैस है। वीवो ज़ेड1 प्रो का वज़न थोड़ा ज्यादा है  201 ग्राम लेकिन इसकी मोटाई 8.85 मिलीमीटर है। रिटेल बॉक्स में आपको एक फ्लेक्सिबल प्लास्टिक केस, 18 वॉट का भारी चार्जर, एक माइक्रो-यूएसबी केबल, 3.5 मिलीमीटर वायर्ड हेडसेट, सिम इजेक्ट पिन और कुछ पर्चे मिलते हैं।

Vivo Z1 Pro softwear   :

वीवो ज़ेड1 प्रो भारत में ऐसा पहला फोन है जो क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 712 प्रोसेसर से लैस है। इस चिपसेट को स्नैपड्रैगन 710 प्रोसेसर से इंप्रूवमेंट के रूप में इस साल के शुरुआत में पेश किया गया था और यह 10nm प्रोसेसर पर बेस्ड है। इसमें क्षमता के लिए छह 1.7 गीगाहर्ट्ज़ Kryo 360 सिल्वर कोर हैं और पावर के लिए दो 2.3 गीगाहर्ट्ज़ Kryo 360 गोल्ड कोर का इस्तेमाल हुआ है। इसके साथ ग्राफिक्स के लिए इंटीग्रेटेड ऐड्रेनो 616 और X15 LTE मॉडम दिया गया है। ऐसा कहा जा रहा है कि स्नैपड्रैगन 710 की तुलना में यह नया चिपसेट 10 प्रतिशत तक बेहतर परफॉर्मेंस और स्नैपड्रैगन 660 की तुलना में 25 प्रतिशत बेहतर परफॉर्मेंस प्रदान करता है। Vivo Z1 Pro की शुरुआती कीमत 14,990 रुपये है। इस दाम में 4 जीबी रैम और 64 जीबी स्टोरेज वाला वेरिएंट मिलेगा।

Vivo Z1 Pro display specification :

फोन के 6 जीबी रैम और 64 जीबी स्टोरेज मॉडल को 16,990 रुपये में बेचा जाएगा। सबसे पावरफुल वेरिएंट 6 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज से लैस है और इसे 17,990 रुपये में बेचा जाएगा। वीवो जे़ड1 प्रो में 6.53 इंच का फुल-एचडी+ (1080x2340 पिक्सल) आईपीएस डिस्प्ले है। Vivo Z1 Pro की बैटरी 5,000 एमएएच की है और यह 18 वॉट की फास्ट चार्जिंग को सपोर्ट करती है। वीवो ब्रांड के इस फोन में कंपनी की खुद की डुअल-इंज़न फास्ट चार्जिंग तकनीक का इस्तेमाल हुआ है। इसके अलावा डुअल-बैंड वाई-फाई और ब्लूटूथ वर्जन 5, जीपीएस सपोर्ट शामिल है लेकिन आपको एनएफसी और एफएम रेडियो नहीं मिलेगा। सभी सामान्य सेंसर के अलावा Vivo Z1 Pro में जायरोस्कोप और ई-कंपास भी शामिल है। Vivo के फोन फनटच ओएस पर चलते हैं जो एंड्रॉयड 9 के लिए बहुत ही हेवी मोडिफाइड हैं। फनटच ओएस की मुख्य खासियत गेम एन्हांसमेंट है जिसे वीवो ने गेम मोड का नाम दिया है लेकिन इसे यूआई में अलग-अलग जगहों पर गेम क्यूब और गेम बॉक्स भी कहा गया है। इसमें पबजी मोबाइल के लिए विशेष ऑप्टिमाइजेशन शामिल है।

vivo z1 pro display
इसके अलावा 4डी वाइब्रेशन है साथ ही आप 3डी सराउंड साउंड का लुत्फ उठा पाएंगे। Vivo Z1 Pro में काउंटडाउन फीचर दिया गया है जिसकी मदद से आप अपनी अगले राउंड आने तक अन्य चीजे भी कर पाएंगे। Vivo Z1 Pro में एसपोर्ट्स मोड है जो बैकग्राउंड में चल रहे सभी ऐप्स को बंद कर देगा, साथ ही नोटिफिकेशन को ब्लॉक करने और परफॉर्मेंस को बढ़ाने के लिए टेंपरेचर थ्रॉटलिंग को डिसेबल करने का काम करता है। वीवो के अनुसार, भविष्य में अपडेट द्वारा वीवो ज़ेड1 प्रो में वॉयस चैट फिल्टर सहित अधिक फीचर्स को जोड़ा जाएगा। 

Vivo z1 pro front and back camera :

तीन रियर कैमरों से लैस है Vivo Z1 Pro। पिछले हिस्से पर एफ/ 1.78 लेंस वाला 16 मेगापिक्सल का प्राइमरी सेंसर, 120 डिग्री सुपर वाइड एंगल लेंस वाला 8 मेगापिक्सल का सेकेंडरी सेंसर और 2 मेगापिक्सल का तीसरा सेंसर है। सेल्फी के दीवानों के लिए 32 मेगापिक्सल का सेंसर है। इसका अपर्चर एफ/ 2.0 है।
एआई फिल्टर, बैकलाइट एचडीआर, पोर्ट्रेट बोकेह, पोर्ट्रेट लाइट इफेक्ट्स, एआई स्टीकर्स, एआई ब्यूटी और लाइव फोटो जैसे कैमरा फीचर इस फोन का हिस्सा हैं। वीवो के कैमरा ऐप यूआई की अगर बात करें तो प्राइमरी और वाइड-एंगल कैमरा के बीच स्विच करने का बटन छोटा है। इसके अलावा डेप्थ इफेक्ट के लिए पोर्टेट मोड देने के बजाय एक अलग बटन दिया गया है।
वीडियो मोड में स्लो-मोशन और टाइम लैप्स जैसे विकल्प मैन्यू में छिपे हुए हैं। Vivo Z1 Pro से खींची गई तस्वीरों से हम काफी प्रभावित थे। तस्वीरों में कलर्स अच्छे आए और फोकस एरिया में डिटेल भी अच्छे से कैप्चर हुई थी। ज्यादातर केस में नेचुरल और ऑर्टिफिशियल टेक्स्चर अच्छा लगता है। सेकेंडरी रियर कैमरे के साथ वाइड-एंगल शॉट्स बहुत कम क्रिस्प थे और वह ओवर-प्रोसेस्ड दिख रहे थे। फ्रेम के किनारों पर हल्का सा वॉर्पिंग भी था।

vivo z1 pro camera

डेप्थ इफेक्ट को ऐनेबल करने के बाद हम स्मूथ बैकग्राउंड ब्लर के साथ कुछ अच्छी तस्वीरें खींच पाए, हालांकि हर समय एज डिटेक्शन परफेक्ट नहीं था। आप Vivo के एल्बम ऐप में जाकर शॉट लेने के बाद भी ब्लर के लेवल को एडजस्ट कर सकते हैं। रात को खींची गई तस्वीरें भी अच्छी आईं। नॉयस भी कंट्रोल में था और कलर्स भी सही से कैप्चर हुए। लेकिन जैसा कि उम्मीद थी मूविंग ऑब्जेक्ट के साथ तस्वीर में कुछ ब्लर देखने को मिला।
बता दें कि बॉय डिफॉल्ट वीडियो 1280x720 पर रिकॉर्ड होती है और इस रिजॉल्यूशन पर थोड़े ग्रेन दिखते हैं। आप Vivo Z1 Pro के साथ 30fps से 4K तक की वीडियो शूट कर सकते हैं। वीवो ने फोन की स्पेसिफिकेशन शीट में वीडियो स्टेबलाइज़ेशन के बारे में कुछ नहीं कहा है। वीडियो शूट करते समय आप स्टेंडर्ड और वाइड-एंगल लेंस के बीच स्विच नहीं कर सकते हैं। फ्रंट कैमरा से खींची गई तस्वीरें भी अच्छी आईं। डेप्थ इफेक्ट या पोर्टेट मोड तो आपको मिलेगा नहीं लेकिन आप लाइटिंग इफेक्ट को अप्लाई कर सकते हैं जो कुछ हद तक सबटल फिल्टर की तरह हैं।

Vivo Z1 Pro parformance and battery  :

प्रतिस्पर्धा बढ़ने की वज़ह से एक बात तो अच्छी हुई कि स्मार्टफोन कम कीमत में उतारे जाने लगे हैं, यही वज़ह है कि आज बजट स्मार्टफोन को हर दिन इस्तेमाल करने के लिए इनमें पर्याप्त पावर होती है। Vivo Z1 Pro को इस्तेमाल करते वक्त हमें फोन धीमा नहीं हुआ। हेवी मोडिफिकेशन के बाद फनटच ओएस में किसी तरह की परफॉर्मेंस समस्या देखने को नहीं मिली।
हमारे पास रिव्यू के लिए Vivo Z1 Pro का 6 जीबी रैम और 64 जीबी स्टोरेज वेरिएंट है। Vivo Z1 Pro का डिस्प्ले सभी परिस्थितियों में बहुत ही शार्प और स्पष्ट है। फोन के व्यूइंग एंगल भी अच्छे हैं लेकिन हमें लगता है कि कुछ लोग पाएंगे कि कलर्स विविड नहीं हैं जितने कि एमोलेड पैनल वाले फोन पर होते हैं

आप कलर टेंपरेचर को एडजस्ट कर सकते हैं और सिस्टम-वाइड डार्क मोड भी दिया गया है, हालांकि सभी थर्ड-पार्टी ऐप्स इसकी पहचान नहीं कप पाते हैं। स्क्रीन के ऊपरी हिस्से में दिया स्टेटस बार काफी मोटा है जो फनटच ओएस यूआई और जो ऐप्स फुल-स्क्रीन पर नहीं आते उन्हें इस्तेमाल करते वक्त यह फ्रंट कैमरा होल को घेर लेता है।Vivo Z1 Pro पर वीडियो देखने पर हमें यह थोड़ा विचलित करने वाला लगा। क्विक डायग्नोस्टिक से पता चला कि फोन केवल Widevine L3 DRM सपोर्ट करता है, इसका मतलब आप Netflix पर एचडी कंटेंट को स्ट्रीम नहीं कर पाएंगे। फोन के निचले हिस्से में दिया सिंगल स्पीकर से आवाज़ काफी तेज़ आती है, लेकिन तेज़ आवाज़ में यह डिस्टॉर्ट होने लगती है।
फोन के साथ आने वाला हेडसेट देखने में ऐप्पल ईयरपॉड्स जैसा लगता है लेकिन कॉल के लिए आवाज़ केवल ठीक है। कागज़ी तौर पर स्नैपड्रैगन 712 प्रोसेसर वीवो जेड1 प्रो को स्लाइट एज़ देता है और इस कीमत पर यह उन ग्राहकों के लिए आकर्षक हो सकता है जिन्हें इस कीमत में लेटेस्ट स्पेसिफिकेशन चाहिए। लेकिन यह बता पाना फिलहाल मुश्किल है कि हर रोज इस्तेमाल करने पर कितना अंतर आता है

vivo z1 pro

सीपीयू-हैवी बेंचमार्क स्कोर काफी हद तक अधिक है जबकि जीपीयू-केंद्रित टेस्ट में मामूली सुधार हुआ है। फुल-स्क्रीन गेमिंग के दौरान कैमरा डॉट हस्तक्षेप नहीं करता क्योंकि यह लगभग हमेशा हमारे अंगूठे द्वारा कवर होता था।PUBG Mobile और Asphalt 9: Legends दोनों ही गेम हाई सेटिंग्स पर स्मूथ चली। आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि फोन केवल थोड़ा ही गर्म हुआ था। Vivo Z1 Pro की बैटरी लाइफ भी बहुत अच्छी थी। हम वीवो ज़ेड1 प्रो का उपयोग डेढ़ दिन से अधिक समय तक करने में सक्षम थे और इसमें हमने 4जी डेटा का उपयोग, कुछ वीडियो को स्ट्रीम करना, बहुत सारी तस्वीरें खींचना और लगभग एक घंटे तक गेम खेलना शामिल है।
हमारे एचडी वीडियो लूप टेस्ट में वीवो जेड1 प्रो ने 18 घंटे और 32 मिनट तक साथ दिया। वीवो ज़ेड1 प्रो के आने वाला 18 वॉट का चार्जर बहुत तेज़ है और हम थर्ट पार्टी चार्जर के साथ भी वीवो डुअल इंजन फास्ट चार्जिंग को देखकर आश्चर्यचकित थे। हालाकि, फोन के तेज़ी से चार्ज होने पर यह फोन गर्म हो जाता है।

Share With Your Friends

Leave a Comment X